मैं निःशब्द देखती हूँ, आकाशों को कई बार

निःशब्द ध्वनि , निःशब्द गूंजन
और शब्दों का संसार।
क्या मुझे रोक पाएंगी सीमाएं ,
बंधनों का मोह माया जंजाल?
उड़ ही जाऊंगा मैं फिर भी उस पार..
कुछ भी अजर अमर नहीं हैं,
शब्द भी , अगर मुझसे पूछो तुम किसी हद तक।
अर्थ मिलते है , शब्दों के उस पार।
Meanings.gif
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s