World War One-Centenary Commemoration of the Faith, Sacrifice, Gallantry & Tradition of the Indian Soldier – North Western Province & Trans Caspian Operations

Difficult Terrains -Hard Lands

 ऐसी बंजर और खामोश जगहों पर पहुंचना और फिर अपने लक्ष्य पर अटल रहना,केवल हिम्मत  नहीं , इरादे का भी काम है।  

 चाहें वो अफ़ग़ानिस्तान के पहाड़ी बंजर हों , या सऊदी अरब के मरुस्थल या ग्रीस की खूबसूरत पर जानलेवा वादियां – हर एक कदम एक अनिश्चितता की ओर। भौगोलिक विषमताओं का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि North Western Province पर तैनात अंग्रेज़ अफसरों ने भी इस अनुभव को ‘grim ‘ यानिभीषणका नाम दिया। 

 एक ऐसा गंतव्य जहां दूर दूर तक सडको का नामों निशान नहीं, ऐसे में हथियारोंगोलाबारूदों के साथ रहना करना।  शीत और हवा के थपेड़ों को सहते हुए चौकन्ने रहना और निरंतर चलते रहना वाकई में बहुत दिलचस्प मालूम पड़ता है। और अफ़ग़ानिस्तान को शत्रु के षड़यंत्र से परे  रखना , ब्रिटिश सरकार  के लिए बहुत  ज़रूरी था क्योंकि इसकी सरहद के पार हिन्दोस्तान –  उस समय का सबसे बड़ा शुभ चिंतक सहयोगी पक्ष था। 

 और डर था कि इस कारण के चलते भारत साजिश का शिकार बनाया जा सकता था और अंग्रेज़ सरकार किसी भी तरह का खतरा नहीं पालना चाहती थी।  इसी सावधानी के चलते प्रथम विश्व युद्ध के चलते Trans-caspian Operations जारी रहे।  

  Transcaspian Operations

    आप देख रहे है , प्रदर्शनी के दौरान  Infiniti Communications के द्वारा बनाया गया North Western Province & Trans Caspian Operations स्टाल।  

 

अधिक जानकारी के लिए लॉग ऑन कीजिये www .c-infiniti.in 

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s